Gold Price Today : सोने ने छुआ आसमान, चांदी के रेट में आई तेजी

Gold Price Today : सोने चांदी की कीमत आसमान छूने को तैयार है। दोनों धातुओं के रेट में तेजी आई है। सोमवार को वायदा बाजार में 24 कैरेट शुद्धता वाले सोने का भाव 207 रुपये उछलकर 54,087 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया।

पढ़ें :- Gold Price Today : सोने में आई मामूली तेजी, चांदी का भाव जानिए

अंतराष्‍ट्रीय बाजार और भारतीय वायदा बाजार में आज, सोमवार 5 दिसंबर को सोने और वायदा में ट्रेडिंग चांदी के रेट तेजी लिए हैं। मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज (MCX) पर सोने का भाव (Gold Price Today) शुरुआती कारोबार में 0.44 फीसदी चढ़ गया है। वहीं, वायदा बाजार में आज चांदी (Silver price Today) 0.76 फीसदी की तेजी आई है। पिछले ट्रेडिंग सेशन में चांदी का रेट 1.59 फीसदी की तेजी के साथ बंद हुआ था तो सोने ने हल्की गिरावट के साथ क्लोजिंग दी थी।

मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज पर आज चांदी में तेजी देखी जा रही है। चांदी का भाव आज कल के बंद भाव से 504 रुपये बढ़कर 66,953 रुपये पर कारोबार कर रहा था। चांदी का रेट आज 67,022 रुपये पर ओपन हुआ था। चांदी का भाव पिछले कारोबारी सत्र में 1,041 रुपये बढ़कर 66450 रुपये पर बंद हुआ था।

#AMP Stories #न्यूज़ ट्रैक स्पेशल FEATURE STORY #FakeNews #Wedding #JusticeForShraddha #FifaWorldCup2022

सस्ता हुआ सोना-चांदी, जानिए अपने शहर का वायदा में ट्रेडिंग भाव

सस्ता हुआ सोना-चांदी, जानिए अपने शहर का भाव

बृहस्पतिवार 8 दिसंबर को अंतराष्‍ट्रीय बाजार में सोने और चांदी के दाम बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है तो भारतीय वायदा बाजार में दोनों कीमती धातुएं लाल निशान में ट्रेड कर रही हैं. मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज (MCX) पर सोने की कीमतें शुरुआती कारोबार में 0.06 प्रतिशत गिर गया है. वहीं, वायदा बाजार में आज चांदी में 0.27 प्रतिशत की गिरावट आई है. पिछले ट्रेडिंग सेशन में चांदी का भाव 1.31 प्रतिशत की तेजी के साथ बंद हुआ था.

बुधवार को वायदा बाजार में 24 कैरेट शुद्धता वाले सोने का दाम 9:10 बजे तक कल के बंद भाव से 30 रुपये टूटकर 53,957 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार कर रहा था. आज सोने का दाम 53,999 रुपये पर खुला था. एक बार भाव 53,938 रुपये पर चला गया. मगर, जल्‍द ही थोड़ा संभलकर 53,957 रुपये हो गया. मल्‍टी कमोडिटी एक्‍सचेंज पर आज चांदी में भी गिरावट देखी जा रही है. चांदी का दाम आज कल के बंद भाव से 153 रुपये गिरकर 66,117 रुपये पर कारोबार कर रहा था. चांदी का भाव आज 66,143 रुपये पर खुला. चांदी की कीमतें पिछले कारोबारी सत्र में 856 रुपये बढ़कर 66,270 रुपये पर बंद हुई थी.

घर बैठे ऐसे चेक करे भाव:-
आपको बता दें आप इन दामों को सरलता से घर बैठे पता लगा सकते हैं। इसके लिए आपको केवल इस नंबर 8955664433 पर मिस्ड कॉल देना है तथा आपके फोन पर मैसेज आ जाएगा, जिसमें आप नवीनतम दाम वायदा में ट्रेडिंग चेक कर सकते हैं। बता दें यदि अब आप सोने की शुद्धता चेक करना चाहते हैं तो इसके लिए सरकार की तरफ से एक ऐप पेश किया गया है। ‘BIS Care app’ से ग्राहक सोने की शुद्धता की जांच कर सकते हैं।

ED ने 108 करोड़ रुपये के ट्रेडिंग फ्रॉड मामले में चार लोगों को किया गिरफ्तार

ED ने 108 करोड़ रुपये के ट्रेडिंग फ्रॉड मामले में चार लोगों को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली । प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को कहा कि जनता से 108 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में एक निजी फर्म के तीन निदेशकों सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है। अभियुक्तों की पहचान ब्लूमैक्स कैपिटल सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड के तीन निदेशक आर अरविंद, एस गोपालकृष्णन, एस भारतराज और तूतीकोरिन के उनके सहयोगी जे अमरनाथ के रूप में की गई। उन्हें एक विशेष पीएमएलए अदालत के समक्ष पेश किया गया, जिसने उन्हें 12 दिनों की हिरासत में भेज दिया है।

ईडी ने ब्लूमैक्स कैपिटल सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ तमिलनाडु पुलिस द्वारा दर्ज कई एफआईआर के आधार पर अपनी जांच शुरू की।

पुलिस को आम जनता से शिकायतें मिलीं कि उन्हें आरोपियों ने धोखा दिया, जिन्होंने उन्हें उच्च रिटर्न का वादा किया था और उन्हें विदेशी मुद्रा, वस्तुओं और सोने के वायदा में ट्रेडिंग व्यापार में अपनी मेहनत की कमाई का निवेश करने के लिए कहा था।

ईडी ने कहा कि पीड़ितों से करीब 108 करोड़ रुपये की ठगी की गई।

जांच एजेंसी को पता चला कि निदेशकों ने नकली सुविधाओं के साथ कंपनी की एक वेबसाइट बनाई थी, जो निवेशकों के पैसे के साथ गलत रियल टाइम फॉरेक्स ट्रेडिंग दिखाती थी।

ईडी ने बताया कि, "कंपनी की कार्यप्रणाली यह थी कि एक बार जब कोई व्यक्ति पैसे का निवेश करेगा, तो उन्हें एक खाता प्रदान किया जाएगा और कंपनी की वेबसाइट को इस तरह से डिजाइन किया गया था कि, जब कोई व्यक्ति अपने खाते में लॉग इन करता है, तो उसके अंदर दिखाई गई सबी चीजें झूठी होती है। वेबसाइट को विदेशी मुद्रा में वास्तविक व्यापार, व्यापार चार्ट के माध्यम से वस्तुओं आदि का झूठा चित्रण करके निवेशकों को गुमराह करने के लिए डिजाइन किया गया था।"

अक्टूबर 2019 में, निदेशकों ने जानबूझकर अपनी कंपनी के सर्वर की झूठी हैकिंग का मंचन किया और उसके बाद निवेशकों को सूचित किया कि उनका पैसा व्यापार में खो गया है।

उन्होंने तब कुछ निवेशकों को आंशिक धन का सांकेतिक पुनर्भुगतान किया था, दूसरों को परेशानी में डाल दिया था।

ईडी की जांच से पता चला है कि, निवेशकों के पैसे को किसी भी व्यापारिक गतिविधियों में निवेश नहीं किया गया था, जैसा कि वादा किया गया था और अब गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों ने विभिन्न व्यावसायिक संस्थाओं के माध्यम से एक बड़ा हिस्सा डायवर्ट किया था और उनके नाम या उनके नाम पर नए व्यवसायों में निवेश किया था। वायदा में ट्रेडिंग वायदा में ट्रेडिंग साथ ही उन्होंने पत्नियों के नाम और गुप्त रूप से क्रिप्टो करेंसी में निवेश भी किया।

यह भी देखा गया कि तीनों निदेशकों ने मिलकर मुख्य रूप से संयुक्त अरब अमीरात, हांगकांग, बेलीज और यूके में अपतटीय स्थानों में ब्लूमैक्स ग्लोबल लिमिटेड के नाम से कंपनियां और बैंक खाते शुरू किए और उनमें पैसा जमा किया।

इसके अलावा, उन्होंने विभिन्न व्यवसायों को भी शुरू किया था और धोखाधड़ी करने के लिए विदेशों में उनके नाम पर और अन्य असंबंधित व्यक्तियों के नाम पर बैंक खाते खोले थे।

Online Fraud : जोधपुर में हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर से 16 करोड़ की ठगी, Whatsapp Chat से बनाया शिकार

Thumbnail image

जोधपुर के हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर के साथ अब तक की सबसे बड़ी ऑनलाइन ठगी हुई है. इसका मामला महामंदिर थाने में दर्ज कराया गया है. पुलिस के मुताबिक विदेशी कम्पनी में निवेश कराने के नाम पर 16 करोड़ से अधिक की ठगी हुई (thugs duped Jodhpur Handicraft Exporter).

जोधपुर. शहर के हैंडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर के साथ अब तक की सबसे बड़ी ऑनलाइन ठगी हुई. इसका मामला महामंदिर थाने में दर्ज हुआ है. ठगी में व्यापारी अरविंद कालानी से 16 करोड़ से अधिक रुपए ऐंठने का मामला सामने आया है. महामंदिर थाना पुलिस ने बताया कि विदेशी कंपनी में निवेश के नाम पर यह ठगी हुई है (thugs duped Jodhpur Handicraft Exporter).

निवेश के बाद व्यापारी को लाभ सहित रकम वापस नहीं दी गई और इसके लिए तकादा किया तो ठगों ने एक्सपोर्टर को व्हाट्सएप ग्रुप से अलग कर दिया. जिसके बाद वह पुलिस के पास पहुंचा. मामले की जांच साइबर सेल के एसीपी मांगीलाल राठौड़ को दी गई है.

मेंबरशिप देकर पहले लुभाया फिर. प्राप्त जानकारी के अनुसार पावटा ए रोड निवासी वायदा में ट्रेडिंग अरविंद कालानी को 31 अक्टूबर को विदेशी महिला ने अमरीका के मोबाइल नम्बर से निर्यातक को व्हॉट्सऐप मैसेज किया (Online Fraud वायदा में ट्रेडिंग With Jodhpur Exporter). जिसमें अपना, कम्पनी का नाम और कम्पनी की वेबसाइट बताई. इसके बाद और लोगों से उसकी बात हुई. विदेशियों ने व्यापारी को लाभ के सारे आंकड़े समझाए. जिसके बाद एक्सपोर्टर ने कम्पनी में चार तरह की मेम्बरशिप (ब्रांज, सिल्वर, गोल्ड व प्लेटिनम) में से सिल्वर की सदस्यता लेकर दो करोड़ 27 लाख रुपए जमा करवाए. इसके एवज में कुछ दिनों तक कमीशन भी दिया गया जिसके बाद व्यापारी का भरोसा बढ़ गया. निवेश और किया गया. इस दौरान ठगों ने एग्रीमेंट भेजकर एक्सपोर्टर से डिजिटल हस्ताक्षर भी करवा लिए.

लालच में फंसे ठगों के जाल मेंः शहर के हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी अरविंद कालानी के साथ हुई 16 करोड़ से अधिक की ठगी की असली वजह लालच था. वह वेबसाइट से वायदा कारोबार का फारकॉस्ट मिलने के लालच में आ गए. ठगों ने अपनी शर्त रखी थी कि सिल्वर, गोल्ड, क्रूड आयल व अन्य के वायदा कारोबार के लिए जो भी टिप मिलेगी उस दिन उससे होने वाले लाभ की राशि तुरंत फोरकास्टर के खाते मे जमा करवानी होगी. जबकि लाभ उनके वेबसाइट के वॉलेट में जमा होगा. जिसे एक साथ वे विड्रो नहीं कर सकेंगे. इसके बाद जो खेल शुरू हुआ, उसमें हैंडीक्राफ्ट व्यसायी अरविंद ने अपने जीवन में मेहनत से कमाई पूंजी दांव पर लगा दी.

यह सिलसिला आगे भी चलता रहता. क्योंकि कालानी के वेबसाइट वॉलेट में 6 लाख 64 हजार अमेरिकी डॉलर का प्रॉफिट जमा हो गया था. जिसका भारतीय मूल्य 49 करोड़ था. लेकिन यह राशि वह विड्रॉ नहीं कर पा रहा था. इसके लिए कंपनी ने मेंबरशिप अपग्रेड करने का कहा. जिसके लिए पांच करोड़ रुपए जमा करवाने थे. इसके लिए जब वह रुपए का प्रबंधन करने लगा तो परिजनों को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने कंपनी से मेंबरशिप अपग्रेड करवाने से मना कर अपना लाभ मांगा तो कंपनी ने मना कर व्हाट्सएप चैट से बाहर कर दिया. तब पुलिस के पास पहुंचे. कालानी ने इस संदर्भ में बात करने से मना कर दिया.

810 करोड़ तक की ठगी का शकः पुलिस की शुरुआती पड़ताल में सामने आया है कि जिन खातों में कालानी ने पैसा जमा करवाया था. उनसे जुड़े लोग अब तक देश में कई लोगों से संभवतः 810 करोड़ रुपए की ठगी कर चुके हैं. पुलिस को बैंक खातों से मिली जानकारी में यह तथ्य सामने आया है. यह खाते मुंबई की आईडीएफसी व एक अन्य बैंक में हैं. एक बैंक में 310 करोड़ व एक में 500 करोड़ रुपए तक का लीन (होल्ड) लगा रखा है।

एक्सपोर्टर थे इसलिए ठगों ने बनाया निशानाः कालानी का हैंडीक्राफ्ट कई वायदा में ट्रेडिंग देशों में एक्सपोर्ट होता है ऐसे में ठगों ने उनको निशाना बनाया. 31 अक्टूबर को उनके मोबाइल पर विदेशी नंबर से इस्ला डोमेनेक्यू नामक महिला ने मैसज कर बताया कि हम कमोडिटी में काम करते हैं. हमारी वेबसाइट है और हम वायदा बाजार के लिए फारकास्ट भी देते हैं. महिला ने चार फोरकास्टर से व्हाट्सएप पर संपर्क करवाया. जिन्होंने वायदा करोबार के लिए प्रतिदिन टिप देने के बदले 30 से 40 फीसदी कमिश्न की डिमांड रखी. जिसे कालानी ने स्वीकार कर लिया. इसके बाद उसने सिल्वर ग्रेड की मेंबरशिप ले ली. 1 नवंबर से ट्रेडिंग शुरू की पहली ट्रेडिंग पर जो लाभ हुआ उसका चालीस फीसदी कमिश्न के रूप में कालानी ने एक लाख रुपए फाकरॉस्टर के खाते में जमा करवा दिए.

एक दिन में 25 से 25 लाख तक का कमिश्नः इसके बाद कालानी आनलाइन ट्रेडिंग में हर दिन कभी चांदी कभी सोने को लेकर टिप मिलती उसके आधार पर काम करता. इससे हर दिन उसे अमेरिकी डालर के रूप में लाभ उसके वॉलेट में नजर आता. जिसका कमीशन उसे फारकास्टर के मुंबई स्थित बैंकों के खाते में जमा करवाना होता. इस दौरान ठगों ने शुरुआत वायदा में ट्रेडिंग में एक बार उसके बैंक खाते में 22 लाख रुपए जमा करवाए. जिससे उसका विश्वास बढ़ गया. सोने की खरीद के लिए जो ट्रेडिंग की गई उसके लिए एक दिन में दो बार में 50 लाख रूपए फार कॉस्टर के खातों में जमा करवाए. सभी ट्रांजेक्शन कालानी ने अपने व अपने भाई के बैंक एकाउंट से किए. इन 101 ट्रांजेक्शन का रिकार्ड पुलिस को सौंपा है.

भारत से ही आपरेट हो रही गैंगः पुलिस की पड़ताल में प्रारंभिक रूप से यह समाने आया है कि एक वेबसाइट के नाम से ठग जो ऑनलाइन धोखाधडी कर रहे हैं. यह पूरा गिरोह संभवतः भारत से ही आपरेट हो रहा है. बदमाश बातचीत के लिए अमेरिकी नंबर का इस्तेमाल कर लोगों को धोखा दे रहे हैं. जबकि बातचीत हिंदी में करते हैं. पुलिस की साइबर टीमें वेबसाइट के लिंक व्हाट्सएप नंबर सहित अन्य तकनीकी साक्ष्यों से पड़ताल कर रही है. जिससे ठगों तक पहुंचा जा सके.

101 बार में दिए 16 करोड़- पुलिस के अनुसार विदेशी कंपनी के प्रलोभन में आए एक्सपोर्टर ने एफआईआर दर्ज करवाने से पहले तक अपने बैंक खाते से 101 बार ट्रांजेक्शन किए. इस ट्रांजेक्शन से करीब 16 करोड़ 26 लाख 387 रुपए जमा करवा दिए. इसके बाद ठगों ने उसे मेंबरशिप अपग्रेड करने का कहा, लेकिन एक्सपोर्टर ने इससे इनकार करते हुए अपनी राशि वापस लौटाने की मांग रखी. जिसके बाद ठगों ने उसे व्हाट्सएप चैट से बाहर कर दिया. एक्सपोर्टर ने ठगों के नंबर पर संपर्क का प्रयास किया लेकिन सफल नहीं हुआ तो उसे पता चला कि उसके साथ ठगी हो गई है. उसके संपर्क का जरिया सिर्फ व्हाट्सएप चैट थी जिससे उसे बाहर किया जा चुका था.

रेटिंग: 4.74
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 137