स्टॉप लॉस ऑर्डर क्या है और इसका इस्तेमाल करके कैसे कमा सकते हैं प्रॉफिट

स्टॉक मार्केट काफी हद तक भावनाओं से चलता है। ऐसे में स्टॉक में इन्वेस्टमेंट से आपको जितना प्रॉफिट होता है उतना भी नुकसान होने का डर रहता है। आपको बता दें कि स्टॉप लॉस इसी नुकसान से बचने के लिए बेहतर तरीका है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। शेयरों में इन्वेस्टमेंट करने में स्टॉप लॉस और टारगेट प्राइस का बहुत ज्यादा इस्तेमाल होता है। क्या होता है इसका मतलब। आइए, इनके बारे में जानने की कोशिश करते हैं।

5paisa के साथ शुरू करें निवेश का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

बता दें कि, आपका स्टॉक ब्रोकर हर शेयर के लिए एक टारगेट प्राइस के बारे में बताता है। मान लीजिये कि आप XYZ कंपनी का शेयर को खरीदना चाहते हैं। फिलहाल इसकी प्राइस 100 रुपये है। आपको ब्रोकर बताएगा कि 3 मंथ में इसकी प्राइस बढ़कर 120 रुपये हो जाएगी। कहने का मतलब है कि आपने 100 रुपये की प्राइस पर XYZ के शेयर को 120 रुपये के टार्गेट प्राइस के साथ अगर खरीदा है तो आप 120 रुपये की प्राइस पर पहुंचने पर इस शेयर को बेचकर हासिल कर सकते हैं। वहीं इस शेयर में काही गिरावट के दौर में तो इसकी प्राइस 100 रुपये से कम होने पर आपको नुकसान उठाना पड़ सकता हैं। लेकिन नुकसान से बचने के लिए आपको स्टॉप लॉस लगाने की सलाह दी जाती है। मान लीजिए कि इस स्टॉक के मामले में आपको 90 रुपये की प्राइस पर स्टॉप लॉस लगाने की सलाह दी जाती है। इसका मतलब यह हुआ कि किसी कारणवश XYZ के स्टॉक में कमजोरी आने पर उसे 90 रुपये में बेच देना ही सही रहता है।

Learn investment and financial planning from football matches, you will get better returns

क्या है स्टॉप लॉस

स्टॉप लॉस वह मूल्य होता है जिस पर आप अपने शेयर सेल कर देते हैं। स्टॉप लॉस प्राइस पर स्टॉक बेच देने की वजह स्टॉप लॉस क्या है से आप बड़े नुकसान से बच जाते हैं। बता दें कि, किसी शेयर का स्टॉप लॉस वह मूल्य होता है जिस पर आपको अधिक नुकसान नहीं होता है। वहीं, किसी शेयर की करेंट प्राइस पर उसमें संभावित नुकसान की सीमा को तय कर सकते हैं। साथ ही, आप स्टॉप लॉस लगाते हैं, जिससे आपको नुकसान कम हो जाता है।

Investors should keep these things in mind in bull and bear market

स्टॉप लॉस का इस्तेमाल प्रयोग इसलिए किए जाते हैं जिससे स्टॉक मार्केट के उतार-चढ़ाव के दौर में आप नुकसान से बच सकते हैं। स्टॉक मार्केट काफी हद तक भावनाओं से चलता है। ऐसे में स्टॉक में इन्वेस्टमेंट से आपको जितना प्रॉफ़िट होता है, उतना भी नुकसान होने का डर रहता है। आपको बता दें कि स्टॉप लॉस इसी नुकसान से बचने के लिए बेहतर तरीका है। स्टॉप लॉस लगाने का यह भी एक फायदा होता है कि अगर आप नियमित रूप से ट्रेडिंग नहीं करते और अपने इन्वेस्टमेंट को रेगुलर मॉनीटर नहीं कर सकते हैं तो ये आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। वहीं स्टॉप लॉस के जरिए वास्तव में इस स्थिति में आपको कई खतरों से बचा सकता है। आपको बता दें कि, स्टॉप लॉस शॉर्ट टर्म के लिए तो बहुत महत्वपूर्ण होता है, लेकिन अगर किसी को लॉंग टर्म के लिए इन्वेस्टमेंट करना है तो फिर उसके लिए इसका कोई बहुत अधिक महत्व नहीं होता है। आपको इस बात के लिए खुद को तैयार होना चाहिए कि शेयर मार्केट में कभी भी कोई चेंज हो सकता है।

Stock Market Investment: what is Face Value, Know all details

अगर आप शेयर मार्केट में निवेश करना चाहते हैं तो आज ही जाएं 5paisa.com पर और अपने निवेश के सफर को और भी बेहतर बनाएं। साथ ही DJ2100 - Coupon Code के साथ बनाइये अपना Demat Account 5paisa.com पर और पाएं ऑफर्स का लाभ।

Stop Loss Meaning in Hindi

What is Stop Loss in Share Market in Hindi?

Stop Loss वह मूल्य है जो शेयर मार्केट में ट्रेडर को ज्यादा नुकसान होने से बचाता है। यह ट्रेडर्स के जोखिम को कम कर उन्हें सही समय पर मार्केट से बाहर निकलने की अनुमति देता है।

शॉर्ट टर्म ट्रेड में स्टॉप लॉस की जरुरत और भी बढ़ जाती है क्योंकि यहां जोखिम की संभावना और भी ज्यादा होती है। स्टॉप लॉस ट्रेडर के इसी जोखिम को सीमित करता है।

यह उनलोगों के स्टॉप लॉस क्या है लिए रामबाण की तरह है जो निरंतर ट्रेडिंग नहीं करते और जो शेयर बाजार के ट्रेंड से अनजान हैं। ऐसे लोग स्टॉप लॉस लगाकर अपने नुकसान को कम कर सकते हैं।

स्टॉप लॉस को अच्छे से समझने के लिए एक उदहारण लेते है।

यदि हम किसी कंपनी के शेयर को 100 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से इस उम्मीद में खरीदते हैं कि इसकी प्राइस मार्केट में कभी तो 120 रुपये हो जाएगी और यह अच्छा-खासा रिटर्न देगी।

इसके उलट दूसरी स्थिति यह भी हो सकती है कि प्राइस 85 रुपये तक पहुंच जाए। मार्केट में इस तरह के बदलाव इतनी तेजी से होते हैं कि ट्रेडर को पता भी नहीं चलता।

इस स्थिति में यदि शेयर खरीदते समय ट्रेडर ने स्टॉप लॉस मूल्य यानी एक खास मूल्य जैसे 95 रुपये तय कर लिया है तो किसी भी वक्त मार्केट के उतार-चढ़ाव के दौरान शेयर प्राइस 95 पर पहुंचेगा तो शेयर खुद ब खुद सेल हो जाएगा और ट्रेडर बड़े नुकसान से बच जाएगा।

तो ये बात हुए स्टॉप लॉस क्या होता है, लेकिन अक्सर शुरूआती ट्रेडर्स इस असमंझस में स्टॉप लॉस क्या है रहते है कि स्टॉप लॉस कैसे लगाए।

SL Trigger Price Means in Hindi

जैसे की बताया गया है की स्टॉप लॉस की सही वैल्यू से आप अपने नुक्सान को सीमित कर सकते है तो यहाँ पर ज़रूरी है की आपको ट्रिगर प्राइस की जानकारी हो । ट्रिगर प्राइस वह प्राइस है जिस प्राइस पर आर्डर एक्सचेंज पर ट्रांसफर हो जाता है और फिर स्टॉप लॉस हिट होते ही आपका आर्डर निष्पादित हो जाता है ।

बाय और सेल दोनों के लिए स्टॉप लॉस ट्रिगर प्राइस की वैल्यू अलग-अलग होती है, जैसे की अगर लॉन्ग पोजीशन ले रहे है तो ट्रिगर प्राइस की वैल्यू स्टॉप लॉस से ज़्यादा होती है और शार्ट पोजीशन के समय ट्रिगर प्राइस स्टॉप लॉस से कम रखा जाता है ।

Stop स्टॉप लॉस क्या है Loss Kaise Lagaye

ऐसे ट्रेडर जो स्टॉक मार्केट में ट्रेड की शुरुआत करने जा रहे हैं और उनके पास मार्केट के ट्रेंड को समझने का अनुभव नहीं है तो ट्रेडर के मन में नुकसान का डर सबसे ज्याादा होता है।

यह डर कभी-कभी इतना ज्यादा होता है कि लोग अपने ट्रेंडिंग के इरादों को भी बदल देते हैं। ऐसे ट्रेडर के लिए स्टॉप लॉस क्या है स्टॉप लॉस एक सहारे की तरह है जिससे वे अपने हिसाब से अपने लॉस को तय कर सकते हैं और प्रॉफिट को लॉक कर सकते हैं।

आइये जानते है कुछ ऐसे स्ट्रेटेजी जो आपको इंट्राडे ट्रेडिंग में सही ट्रिगर प्राइस सेट करने में मदद करती है ।

Best Stop Loss Strategy in Hindi

Stop loss के बारे में अच्छी तरह समझने के बाद सवाल उठता है कि आखिर किस प्राइस पर Stop loss लगाया जाए, क्या इसके लिए कोई नियम है?

इन सवालों के जवाब के साथ ही आप Stop loss को लेकर स्टॉप लॉस क्या है एक अच्छी रणनीति तैयार कर सकते हैं। शेयर मार्केट का गणित का सही उपयोग कर आप स्टॉप लॉस की जानकारी प्राप्त कर सकते है।

1. परसेंटेज मेथड (Percentage Method): ज्यादातर ट्रेडर Stop loss के लिए परसेंटेज नियम का पालन करते हैं। यह परसेंटेज नियम शेयर प्राइस का 10 प्रतिशत होता है। उदाहरण के लिए यदि शेयर प्राइस 100 रुपये है तो स्टॉप लॉस क्या है 100 रुपये का 10 प्रतिशत कम यानी 90 रुपये पर आप अपना Stop loss लगा सकते है।

क्योकि आप अपने रिस्क के अनुसार स्टॉप लॉस सेट करते है इसलिए शुरुआती ट्रेडर के लिए ये काफी चुनौतीपूर्ण होता है । अगर आप सही वैल्यू के साथ स्टॉप लॉस लगाना चाहते है तो उसके लिए आप आगे दी गयी सपोर्ट और रेजिस्टेंस मेथड का उपयोग कर सकते है। नए ट्रेडर्स के लिए ये एक अच्छा इंट्राडे ट्रेडिंग स्ट्रेटेजी (Intraday Trading Strategy in Hindi) मानी जा सकती है.

2. सपोर्ट और रेजिस्टेंस मेथड (Support and Resistance in Hindi): हर एक स्टॉक अस्थिरता के चलते शेयर मार्केट चार्ट में एक सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल बनाता है और ये लेवल आपको स्टॉप लॉस लगाने में मदद करते है ।

अगर आपने लॉन्ग पोजीशन लेकर इंट्राडे ट्रेड की है तो यहाँ पर आप ट्रेडिंग प्राइस से पहले वाले सपोर्ट को पहचान उससे थोड़ा कम स्टॉप लॉस लगा सकते है ।

उदारहण के लिए अगर स्टॉक का एंट्री प्राइस 200 है और उसका सपोर्ट 185 पर है तो आप 182 पर स्टॉप लॉस ट्रिगर प्राइस लगा सकते है । इसी तरह से अगर आपने शार्ट पोजीशन लेकर ट्रेड किया है तो आप रेसिस्टेन्स की जानकारी प्राप्त कर स्टॉप लोस्स ट्रिगर प्राइस लगा सकते है ।

अगर आपको सपोर्ट और रेजिस्टेंस की जानकारी प्राप्त करने में मुश्किल हो रही है तो आप इंट्राडे ट्रेडिंग फॉर्मूला का उपयोग कर सकते है ।

स्टॉप लॉस के फायदे

Stop loss लगाने के लिए ट्रेडर को अलग से कोई राशि नहीं देनी पड़ती है। इस तरह से देखा जाए तो ट्रेडर के लिए यह एक फ्री इंश्योरेंस पॉलिसी की तरह है जो केवल फायदा ही पहुंचा सकती है नुकसान नहीं।

नए ट्रेडर को ट्रेड करने के लिए प्रोत्साहित करती है। नए ट्रेडर के सामने सबसे बड़ी चुनौती और मार्केट में उतरने का डर होता है कि कही वो अपने पैसे न गंवा दें। इसलिए Stop loss जोखिम को कम कर ट्रेडर का मार्केट में उतरने के निर्णय में मदद करता है।

ये आपके मार्केट संबंधी भ्रांतियों को दूर कर एक विश्वास प्रदान करता है। यदि कोई ट्रेडर अपनी उम्मीद के मुताबिक ही मार्केट में जोखिम उठाता है तो मार्केट के प्रति उसका विश्वास बढ़ता है।

स्टॉप लॉस के नुकसान

Stop loss के सबसे बड़े नुकसानों में से एक की बात करें तो मार्केट में आई कुछ समय की अस्थिरता पर भी यह सक्रिय हो जाते हैं क्योंकि हो सकता है कुछ समय अंतराल के बाद मार्केट में फिर से तेजी आ जाए।

ऐसे में ट्रेडर ज्यादा रिटर्न पाने की संभावना से वंचित रह जाता है। इसे एक उदाहरण से समझने की कोशिश करते हैं। मान लिया किसी ट्रेडर ने 120 में शेयर खरीदे और 108 का स्टॉप लॉस लगाया।

अब यदि मार्केट कुछ समय के लिए भी नीचे आया तो शेयर 108 में सेल हो जाएगा जबकि यह शेयर ट्रेडर को और भी ज्यादा बड़ा रिटर्न दे सकता था।

स्टॉप लॉस लगाने के लिए कोई स्थायी नियम नहीं है। अलग-अलग ट्रेडर अपने हिसाब से इसका उपयोग कर सकते हैं। एक और नुकसान की बात करें तो मार्केट ट्रेंड के हिसाब से स्टॉप लॉस में बदलाव नहीं किया जा सकता है।

निष्कर्ष

नए ट्रेडर के लिए Stop loss एक इंश्योरेंस की तरह तो है जो उनके जोखिम को खत्म कर उनके पैसे खोने के डर को खत्म करता है लेकिन लेकिन कभी-कभी यह नुकसान भी पहुंचाता है।

स्टॉप लॉस को उन लोगों के लिए तो फायदेमंद है जो ट्रेड के बाद मार्केट के ट्रेंड पर नजर नहीं रखते लेकिन उन लोगों के लिए यह उतना फायदेमंद नहीं है जो मार्केट को करीब से जानते हैं और उसके हर मूवमेंट पर कड़ी नजर रखते हैं। सरल भाषा में इंट्राडे ट्रेडिंग के नियमों (intraday trading rules in hindi) में स्टॉप लॉस लगाना सबसे पहला और महत्वपूर्ण नियम माना जाता है।

तो सही से इसकी जानकारी लें ट्रेड में होने वाले नुकसान को सीमित करें ।

Start Learning through Free & Pro Stock Market Courses!

Install Stock Pathsahla and Get Exclusive 20% off on all subscriptions.Use Coupon Code SPWEB20

क्या है Stop Loss और Target Price?

शेयरों में निवेश से आपको जितना लाभ होता है, उतना ही नुकसान भी हो सकता है.

A man walks out of the Bombay Stock Exchange (BSE) building in Mumbai

Stop Loss का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव के दौर में आप नुकसान से बच सकें

इसका मतलब यह है कि आपने 100 रुपये की कीमत पर ए के शेयर को 120 रुपये के Target Price के साथ खरीदा है. आप 120 रुपये की कीमत पर पहुंचने पर इस शेयर को बेचकर मुनाफा हासिल कर सकते हैं.

इस शेयर में किसी वजह से गिरावट भी आ सकती है. इसकी कीमत 100 रुपये से कम होने पर आपको नुकसान उठाना पड़ेगा. नुकसान से बचने के लिए आपको स्टॉप लॉस (Stop Loss) लगाने की सलाह दी जाती है.

मान लीजिए इस शेयर के मामले में आपको 90 रुपये की कीमत पर Stop Loss लगाने की सलाह दी जाती है. इसका मतलब यह हुआ कि किसी वजह से ए के शेयरों में कमजोरी आने पर उसे 90 रुपये में बेच देना ठीक रहेगा.

स्टॉप लॉस (Stop Loss) वह मूल्य होता है जिस पर आप अपने शेयर बेच देते हैं. स्टॉप लॉस (Stop Loss) प्राइस पर शेयर बेच देने की वजह से आप बड़े नुकसान से बच जाते हैं.

किसी शेयर का स्टॉप लॉस (Stop Loss) वह मूल्य है जिस पर आपको ज्यादा नुकसान नहीं होता है. वास्तव में आप किसी शेयर की मौजूदा कीमत पर उसमें संभावित नुकसान की सीमा तय कर लेते हैं. इसके बाद ही आप स्टॉप लॉस (Stop Loss) लगाते हैं, जिससे आपका नुकसान कम हो जाता है.

क्यों होता है स्टॉप लॉस (Stop Loss) का इस्तेमाल?
स्टॉप लॉस (Stop Loss) का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव के दौर में आप नुकसान से बच सकें. शेयर बाजार काफी हद तक भावनाओं से चलता है. ऐसे में शेयरों में निवेश से आपको जितना लाभ होता है, उतना ही नुकसान भी हो सकता है.

स्टॉप लॉस (Stop Loss) इसी नुकसान को कम करने का तरीका है. Stop Loss लगाने का एक फायदा यह भी है कि अगर आप नियमित रूप से ट्रेडिंग नहीं करते और अपने निवेश को रेगुलर मॉनीटर नहीं कर सकते तो यह स्टॉप लॉस क्या है आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. स्टॉप लॉस (Stop Loss) वास्तव में इस स्थिति में आपको कई खतरों से बचा सकता है.

आपके लिए क्या है Stop Loss का महत्व?
स्टॉप लॉस (Stop Loss) छोटी अवधि के लिए तो बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन अगर किसी को लंबी अवधि के लिए निवेश करना है तो फिर उसके लिए इसका कोई बहुत ज्यादा महत्व नहीं है. आपको इस बात के लिए खुद को तैयार रखना चाहिए कि शेयर बाजार में कभी भी कोई बदलाव हो सकता है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

स्टॉप लॉस क्या है

स्टॉप लॉस आर्डर आप की मदद करता है जब भी आप को लगे की आपने जो आर्डर प्लेस किया है (चाहे वो खरीद का हो या बेचने का हो) वो आपके खिलाफ जा सकता है और आपके नुक्सान को कम करने में आपकी मदद करता है। उदहारण के तौर पे - अगर आपने Rs 100/- का कोई स्टॉक खरीदा है और आप ज़्यादा से ज़्यादा Rs 5/- का नुक्सान उठा सकते है तो आपको अपना स्टॉक को Rs 95/- में बेचने के लिए आर्डर प्लेस करना होगा। इस तरह के आर्डर को स्टॉप लॉस आर्डर कहते है क्योंकि आप आपने नुकसान को उतना ही लिमिट कर रहे हैं जितना की आप सह सकते है।

दो तरह के स्टॉप लॉस आर्डर होते है:

1. SL आर्डर (स्टॉप -लॉस लिमिट) = प्राइस + ट्रिगर प्राइस

2. SL-M आर्डर (स्टॉप -लॉस मार्किट) = सिर्फ ट्रिगर प्राइस

केस 1 > अगर आप ने बाय पोजीशन लिया है तो, आप सेल SL प्लेस करना होगा

केस 2 > अगर आप ने सेल पोजीशन लिया है तो, आप बाय SL प्लेस करना होगा

केस 1 में, अगर आपके पास Rs 100/- में बाय का पोजीशन है और आप स्टॉप लॉस Rs 95/- में प्लेस करना चाहते है

a. SL-M आर्डर टाइप - आपको सेल आर्डर SL-M प्लेस करना होगा, जिसमें ट्रिगर प्राइस 95 होगा और जब प्राइस 95 पर ट्रिगर होगा तो , सेल मार्किट आर्डर एक्सचेंज को जायेगा और आपका पोजीशन मार्किट प्राइस पर क्लोज हो जायेगा।

b. SL आर्डर टाइप - आपको सेल SL आर्डर प्लेस करना होगा, ट्रिगर प्राइस के साथ क्योंकि आपका आर्डर को पहले ट्रिगर करना होगा इसीलिए (ट्रिगर प्राइस ≥ प्राइस ) इस तरह के आर्डर आपको रेंज देता है , स्टॉप लॉस के लिए।

मान लीजिये आप रेंज Rs 0.10 (10 paise) का दिया है अब आप ट्रिगर प्राइस = 95 और प्राइस = 94.90 होगा। जब प्राइस 95 पर ट्रिगर करता है, तब सेल लिमिट आर्डर एक्सचेंज को जाता है और आर्डर स्क्वायर ऑफ हो जाता है। जो भी प्राइस उपलब्ध होगा 94.90 से उपर उसी पर स्क्वायर ऑफ हो जायेगा। मतलब SL आर्डर 96 या 94.95 पर ही पूरा होगा और 94.90 से नीचे नहीं होगा।

इस तरह के आर्डर का नुकसान भी है, अगर मान लीजिए मार्किट बहुत जल्दी से गिरने लगता है जब तक 95 ट्रिगर हो और इससे पहले की 94.90 सेल लिमिट आर्डर एक्सचेंज को मिले, स्टॉक प्राइस पहले ही 94.90 से नीचे गिर चूका हो, तब स्टॉप-लॉस आर्डर आप का क्लोज नहीं होगा। आपका स्टॉप लॉस आर्डर खुला ही रहेगा और आपका नुकसान बहुत ही बढ़ सकता है।

आपको खुद ही तय करना होगा की SL or SL-M का इस्तेमाल करें स्टॉप लॉस क्या है मार्किट को दिमाग में रख कर तय करना होगा।

केस 2 में, आप के पास सेल पोजीशन है 100 पर है, आप SL 105 में प्लेस करना चाहते है,

a. SL-M आर्डर टाइप - आप को बय SL-M आर्डर प्लेस करना होगा ट्रिगर प्राइस = 105 यहाँ जब प्राइस 105 ट्रिगर करेगा तब बय मार्किट आर्डर एक्सचेंज को मिलेगा और आपका पोजीशन स्क्वायर ऑफ मार्किट प्राइस पर हो जायेगा।

b. SL आर्डर टाइप - आपको बय SL आर्डर प्लेस करना होगा, ट्रिगर प्राइस के साथ क्योंकि आपका आर्डर को पहले ट्रिगर करना होगा इसीलिए (ट्रिगर प्राइस ≤ प्राइस ) इस तरह के आर्डर आपको रेंज देता है , स्टॉप लॉस के लिए।

मान लीजिये आप रेंज Rs 0.10 (10 paise) का दिया है अब आप ट्रिगर प्राइस = 105 और प्राइस = 105.10 होगा। जब प्राइस 105 पर ट्रिगर करता है, तब बय लिमिट आर्डर एक्सचेंज को जाता है और आर्डर स्क्वायर ऑफ हो जाता स्टॉप लॉस क्या है है। जो भी प्राइस उपलब्ध होगा 105.10 से नीचे उसी पर स्क्वायर ऑफ हो जायेगा। मतलब SL आर्डर 105.05 या 105 पर ही पूरा होगा और 105.10 से ऊपर नहीं होगा।

SL आर्डर का दूसरा अल्टरनेटिव इस्तेमाल:

जैसे की सेल SL आर्डर बय प्राइस के नीचे के लिए इस्तेमाल होता और बय SL आर्डर सेल प्राइस के ऊपर , तो आप यह आर्डर टाइप्स को लास्ट ट्रेडेड प्राइस (LTP) के ऊपर या लास्ट ट्रेडेड प्राइस के नीचे इस्तेमाल कर सकते है।

1. LTP के अपर बय करने के लिए आप बय SL आर्डर प्लेस कर सकते है जो भी प्राइस में आपको बय करना है।

2. LTP के नीचे सेल करने के लिए आप सेल SL आर्डर प्लेस कर सकते है जो भी प्राइस में आपको सेल करना है।

Kite का टुटोरिअल जो स्टॉप लॉस आर्डर पर है उसकी जानकारी के लिए है यहाँ क्लिक करें और Kite यूजर मैन्युअल के लिया यहाँ क्लिक करें

रेटिंग: 4.55
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 423