देश का विदेशी मुद्रा भंडार फिर से 600 अरब डॉलर के पार, पिछले हफ्ते 3.8 अरब डॉलर की हुई बढ़ोतरी

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार (Forex Reserves) पिछले हफ्ते 3.854 अरब डॉलर बढ़कर 601.363 अरब डॉलर पर पहुंच गया

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार (Forex Reserves) एक बार फिर 600 अरब डॉलर के पार चला गया है, जो देश की मजबूत वित्तीय स्थिति को दिखाता है। शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक 27 मई को खत्म हुए हफ्ते में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 3.854 अरब डॉलर बढ़कर 601.363 अरब डॉलर पर पहुंच गया। बता दें कि इससे पिछले हफ्ते देश का विदेशी मुद्रा भंडार 4.230 अरब डॉलर बढ़कर 597.509 अरब डॉलर रहा था।

भारतीर रिजर्व बैंक (RBI) ने बताया कि पिछले हफ्ते विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ने के पीछे मुख्य वजह फॉरेन करेंसी एसेट्स (FCA) में हुई बढ़ोतरी रही। इसके साथ 27 मई को खत्म हुए हफ्ते में देश का फॉरेन करेंसी एसेट्स (FCA) 3.61 अरब डॉलर बढ़कर 536.988 अरब डॉलर हो गया।

फॉरेन करेंसी एसेट्स (FCA) के तौर पर यूरो, पौंड और येन जैसी गैर-अमेरिकी मुद्राओं को रखा जाता है और इनकी वैल्यू डॉलर में नोट की जाती है। इन विदेशी मुद्राओं की डॉलर के मुकाबले वैल्यू घटने और बढ़ने से फॉरेन करेंसी एसेट्स की वैल्यू में भी अतंर आता है।

संबंधित खबरें

Jaypee Power Ventures ने बुलाई बोर्ड मीटिंग, सीमेंट ग्राइंडिंग यूनिट को बेचने पर होगा विचार

Budget 2023: Income Tax में छूट का चांस नहीं, जानिए क्यों!

Mutual Funds में निवेशक जमकर लगा रहे पैसे, पहली बार 40 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंचा AUM, लेकिन इन स्कीम्स का का घटा क्रेज

RBI ने बताया कि 27 मई को समाप्त हुए हफ्ते में RBI का गोल्ड रिजर्व भी बढ़ा है विदेशी मुद्रा की कीमतें और यह 9.4 करोड़ डॉलर बढ़कर 40.917 अरब डॉलर हो गया। 27 मई को समाप्त हुए हफ्ते में, इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) के पास जमा स्पेशल ड्राइंग राइट्स (SDR) 13.2 करोड़ डॉलर बढ़कर 18.438 अरब डॉलर हो गया। साथ ही IMF में रखे देश का मुद्रा भंडार 1.8 करोड़ डॉलर बढ़कर 5.019 अरब डॉलर पर पहुंच गया।

RBI ने पिछले हफ्ते जारी अपनी सालाना रिपोर्ट में बताया था कि वित्त वर्ष 2022 के दौरान सोने की अतिरिक्त खरीदारी, गोल्ड कीमतों में बढ़ोतरी और डॉलर के मुकाबले रुपये में कमजोरी के चलते उसके गोल्ड रिजर्व की वैल्यू में 30 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। विदेशी मुद्रा की कीमतें RBI ने रिपोर्ट में यह भी कहा सोना ने एक बार फिर से ग्लोबल अस्थिरता के समय साबित किया है वह निवेश के लिए एक सुरक्षित विकल्प है।

गिरते रुपया को संभालने में जुटा RBI, विदेशी मुद्रा भंडार पर दिख रहा असर!

आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक15 जुलाई को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 7.541 अरब डॉलर घटकर 572.712 अरब डॉलर रह गया। स्वर्ण भंडार का मूल्य भी 83 करोड़ डॉलर घटकर 38.356 अरब डॉलर रह गया।

गिरते रुपया को संभालने में जुटा RBI, विदेशी मुद्रा भंडार पर दिख रहा असर!

भारतीय रिजर्व बैंक की तरफ से रुपया की गिरावट को रोकने के लिए जो प्रयास किए जा रहे हैं, इसका असर देश के विदेशी मुद्रा भंडार पर दिख रहा है। रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों के मुताबिक विदेशी मुद्रा भंडार में एक बार फिर गिरावट आई है। वहीं, रुपया की बात करें तो शुक्रवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 5 पैसे की गिरावट के साथ 79.90 रुपये पर बंद हुआ।

कैसी रही रुपया की चाल: भारतीय करेंसी रुपया कमजोर खुला और कारोबार के अंत में यह पिछले बंद भाव के मुकाबले पांच पैसे की गिरावट के साथ 79.90 प्रति डॉलर पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान रुपया 79.86 के दिन के उच्चतम स्तर और 79.92 के निम्नतम स्तर तक गया।

विदेशी मुद्रा भंडार का हाल: आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक15 जुलाई को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 7.541 अरब डॉलर घटकर 572.712 अरब डॉलर रह गया। इससे पहले के सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 8.062 अरब डॉलर घटकर 580.252 अरब डॉलर रह गया था। स्वर्ण भंडार का मूल्य भी 83 करोड़ डॉलर घटकर 38.356 अरब डॉलर रह गया।

रुपया में गिरावट की वजह: विदेशी बाजारों में डॉलर के मजबूत होने से निवेशकों की निवेश धारणा प्रभावित हुई। हालांकि, घरेलू शेयर बाजारों की तेजी ने रुपये की गिरावट पर अंकुश लगा दिया। जानकारों ने कहा कि घरेलू बाजारों में तेजी, एफआईआई निवेश और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी ने रुपये को समर्थन दिया। लेकिन, डॉलर की मजबूती ने तेजी पर रोक लगा दी।

विदेशी मुद्रा की कीमतें

चीन का विदेशी मुद्रा भंडार 30 खरब 29 अरब डॉलर

चीनी राजकीय विदेशी मुद्रा प्रबंधन ब्यूरो द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार इस सितंबर के अंत तक चीन का विदेशी मुंद्रा भंडार 30 खरब 29 अरब अमेरिकी डॉलर रहा ,जिसमें इस अगस्त के अंत की तुलना में 0.85 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी।

चीनी राजकीय विदेशी मुद्रा प्रबंधन ब्यूरो की उप निदेशक और प्रवक्ता वांग छुनइंग के मुताबिक इस साल सितंबर में सीमा पार पूंजी की बहाली आम तौर पर स्थिर रही ।विदेशी मुद्रा की सप्लाई और मांग संतुलित बनी रही ।

उन्होंने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय बाजार में अमेरिकी डॉलर का सूचकांक और बढ़ रहा है और वैश्विक वित्तीय संपत्ति की कीमतों में बड़ी गिरावट नजर आ रही है ।विनिमय दर और संपत्ति की कीमतों के बदलाव से इस सितंबर में विदेशी मुद्रा भंडार का पैमाना थोड़ा कम हुआ है ।(वेइतुंग)

एक डॉलर की कीमत 80 रुपये पर पहुंची, जानें- क्यों कमजोर होता जा रहा है रुपया, अभी और कितनी गिरावट बाकी?

Rupee Vs Dollar: एक डॉलर की कीमत 80 रुपये पर पहुंच गई है. संसद में सवालों के जवाब में केंद्र सरकार की तरफ से जवाब दिया गया है कि 2014 के बाद से डॉलर के मुकाबले रुपये में अभी तक 25 फीसदी की गिरावट दर्ज की गयी है.

Updated Date: July 19, 2022 12:44 PM IST

एक डॉलर की कीमत 80 रुपये पर पहुंची, जानें- क्यों कमजोर होता जा रहा है रुपया, अभी और कितनी गिरावट बाकी?

Rupee Vs Dollar: मंगलवार को शुरुआती कारोबार में भारतीय रुपया मनोवैज्ञानिक रूप से महत्वपूर्ण विनिमय दर के स्तर डॉलर के मुकाबले 80 रुपये के स्तर से नीचे चला गया. ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, रुपया घटकर 80.06 प्रति डॉलर पर आ गया.

रुपया विनिमय दर क्या है?

अमेरिकी डॉलर की तुलना में रुपये की विनिमय दर अनिवार्य रूप से एक अमेरिकी डॉलर को खरीदने के लिए आवश्यक रुपये की संख्या है. यह न केवल अमेरिकी सामान खरीदने के लिए बल्कि अन्य वस्तुओं और सेवाओं (जैसे कच्चा तेल) की पूरी मेजबानी के लिए एक महत्वपूर्ण मीट्रिक है, जिसके लिए भारतीय नागरिकों और कंपनियों को डॉलर की आवश्यकता होती है.

जब रुपये का अवमूल्यन होता है, तो भारत के बाहर से कुछ खरीदना (आयात करना) महंगा हो जाता है. इसी तर्क से, यदि कोई शेष विश्व (विशेषकर अमेरिका) को माल और सेवाओं को बेचने (निर्यात) करने की कोशिश कर रहा है, तो गिरता हुआ रुपया भारत के उत्पादों को और अधिक प्रतिस्पर्धी बनाता है, क्योंकि रुपये का अवमूल्य विदेशियों के लिए भारतीय उत्पादों को खरीदना सस्ता बनाता है.

Also Read

डॉलर के मुकाबले रुपया क्यों कमजोर हो रहा है?

सीधे शब्दों में कहें तो डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हो रहा है, क्योंकि बाजार में रुपये की तुलना में डॉलर की मांग ज्यादा है. रुपये की तुलना में डॉलर की बढ़ी हुई मांग, दो कारकों के कारण बढ़ रही है.

पहला यह कि भारतीय जितना निर्यात करते हैं, उससे अधिक वस्तुओं और सेवाओं का आयात करते हैं. इसे ही करेंट अकाउंट डेफिसिट (CAD) कहा जाता है. जब किसी देश के पास यह होता है, तो इसका तात्पर्य है कि जो आ रहा है उससे अधिक विदेशी मुद्रा (विशेषकर डॉलर) भारत से बाहर निकल रही है.

2022 की शुरुआत के बाद से, जैसा कि यूक्रेन में युद्ध के मद्देनजर कच्चे तेल और अन्य कमोडिटीज की कीमतों में बढ़ोतरी होने लगी है, जिसकी वजह से भारत का सीएडी तेजी से बढ़ा है. इसने रुपये में अवमूल्यन यानी डॉलर के मुकाबले मूल्य कम करने का दबाव डाला है. देश के बाहर से सामान आयात करने के लिए भारतीय ज्यादा डॉलर की मांग कर रहे हैं.

दूसरा, भारतीय अर्थव्यवस्था में निवेश में गिरावट दर्ज की गयी है. ऐतिहासिक रूप से, भारत के साथ-साथ अधिकांश विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में CAD की प्रवृत्ति होती है. लेकिन भारत के मामले में, यह घाटा देश में निवेश करने के लिए जल्दबाजी करने वाले विदेशी निवेशकों द्वारा पूरा नहीं किया गया था; इसे कैपिटल अकाउंट सरप्लस भी कहा जाता है. इस अधिशेष ने अरबों डॉलर लाए और यह सुनिश्चित किया कि रुपये (डॉलर के सापेक्ष) की मांग मजबूत बनी रहे.

लेकिन 2022 की शुरुआत के बाद से, अधिक से अधिक विदेशी निवेशक भारतीय बाजारों से पैसा निकाल रहे हैं. ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि भारत की तुलना में अमेरिका में ब्याज दरें बहुत तेजी से बढ़ रही हैं. अमेरिका में ऐतिहासिक रूप से उच्च मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए अमेरिकी केंद्रीय बैंक आक्रामक रूप से ब्याज दरों में वृद्धि कर रहा है. निवेश में इस गिरावट ने भारतीय शेयर बाजारों में निवेश करने के इच्छुक निवेशकों के बीच भारतीय रुपये की मांग में तेजी से कमी की है.

इन दोनों प्रवृत्तियों का परिणाम यह है कि डॉलर के सापेक्ष रुपये की मांग में तेजी से गिरावट दर्ज की गयी है. यही वजह है कि डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर हो रहा है.

क्या डॉलर के मुकाबले केवल रुपये में ही आई है गिरावट?

यूरो और जापानी येन समेत सभी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर मजबूत हो रहा है. दरअसल, यूरो जैसी कई मुद्राओं के मुकाबले रुपये में तेजी आयी है.

क्या रुपया सुरक्षित क्षेत्र में है?

रुपये की विनिमय दर को “प्रबंधित” करने में आरबीआई की भूमिका को समझना महत्वपूर्ण है. यदि विनिमय दर पूरी तरह से बाजार द्वारा निर्धारित की जाती है, तो इसमें तेजी से उतार-चढ़ाव होता है – जब रुपया मजबूत होता है और रुपये का अवमूल्यन होता है.

लेकिन आरबीआई रुपये की विनिमय दर में तेज उतार-चढ़ाव की अनुमति नहीं देता है. यह गिरावट को कम करने या वृद्धि को सीमित करने के लिए हस्तक्षेप करता है. यह बाजार में डॉलर बेचकर गिरावट को रोकने की कोशिश करता है. यह एक ऐसा कदम है जो डॉलर की तुलना में रुपये की मांग के बीच के अंतर को कम करता है. जिससे भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट आती है. जब आरबीआई रुपये को मजबूत होने से रोकना चाहता है तो वह बाजार से अतिरिक्त डॉलर निकाल लेता है, जिससे भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी होती है.

एक डॉलर की कीमत 80 रुपये से ज्यादा होने के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि क्या रुपये में और गिरावट आनी बाकी है? जानकारों का मानना है कि 80 रुपये का स्तर एक मनोवैज्ञानिक स्तर था. अब इससे नीचे आने के बाद यह 82 डॉलर तक पहुंच सकता है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें की और अन्य ताजा-तरीन खबरें.

रुपये के मोर्चे पर लगा झटका, डॉलर के मुकाबले गिरी भारतीय करेंसी

सोमवार को अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया 52 पैसे की गिरावट के साथ 81.85 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.26 पर खुला.

रुपये के मोर्चे पर लगा झटका, डॉलर के मुकाबले गिरी भारतीय करेंसी

घरेलू बाजार में कमजोर रुख और कच्चे तेल की कीमतों में तेजी की वजह से सोमवार को अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया 52 पैसे की गिरावट के साथ 81.85 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 81.26 पर खुला. बाद में रुपये का शुरुआती फायदा गुम हो गया और कारोबार के आखिर में यह 52 पैसे की गिरावट के साथ 81.85 प्रति डॉलर पर बंद हुआ. यह छह हफ्ते से ज्यादा समय में रुपये में एक दिन की सबसे बड़ी गिरावट है.

आज रुपये का कैसा रहा ट्रेंड?

कारोबार के दौरान रुपये ने 81.25 के ऊंचे स्तर और 81.82 के निचले स्तर को छुआ. इससे पिछले कारोबारी सत्र में रुपया सात पैसे की गिरावट के साथ 81.33 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. इस बीच दुनिया की छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर की कमजोरी या मजबूती को दिखाने वाला डॉलर सूचकांक 0.10 फीसदी की गिरावट के साथ 104.44 रह गया है. वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा 1.82 फीसदी बढ़कर 87.13 डॉलर प्रति बैरल हो गया है.

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 33.9 अंक घटकर 62,834.60 अंक पर बंद हुआ. शेयरखान बाय बीएनपी परिबा के शोध विश्लेषक अनुज चौधरी ने कहा कि कमजोर बाजार और कच्चे विदेशी मुद्रा की कीमतें तेल के दाम ऊंचे रहने की वजह से सोमवार को रुपये में गिरावट आई है. हालांकि, कमजोर डॉलर की वजह से रुपये की गिरावट पर कुछ अंकुश लगा है. शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशक (FII) पूंजी बाजार में शुद्ध लिवाल रहे और उन्होंने शुक्रवार को 214.76 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे.

रुपये का आप पर क्या होगा असर?

आपको बता दें कि रुपये में तेजी और गिरावट का असर आम जन जीवन पर देखा जा सकता है. हाल के दिनों में महंगाई विदेशी मुद्रा की कीमतें दर के रूप में यह देखा भी जा रहा है. रुपये में कमजोरी से अंतररराष्ट्रीय बाजार से आयात की गई कमोडिटी में किसी भी कमी का असर घट जाती है.

इस वजह से कच्चे तेल में गिरावट का फायदा पाने में और समय लगेगा, क्योंकि कीमतों में गिरावट के बीच रुपये में कमजोरी से आयात बिल बढ़ जाएगा और इससे सरकारी खजाने पर बोझ बना रहेगा.

रेटिंग: 4.59
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 467